Village पंचायत Head और मुखिया कौन होता है – ग्राम पंचायत का मुखिया कैसे बने

आज हम इस पोस्ट में जानेंगे की ग्राम पंचायत का मुखिया कौन होता है, ग्राम पंचायत का गठन कैसे किया जाता है, ग्राम पंचायत का मुखिया कैसे बने, ग्राम पंचायत के क्या कार्य होते है.

यदि आप ग्राम पंचायत का मुखिया या Village Panchayat Head बनना चाहते है या Village Panchayat Head से सम्बंधित जानकारी चाहते हे तो आप इस पोस्ट में पढ़ सकते है

Village पंचायत Head और मुखिया कौन होता है – ग्राम पंचायत का मुखिया कैसे बने

Village Panchayat Head Or Mukhiya Kon Hota Hai

Village Panchayat Head Or Mukhiya ग्राम पंचायत का प्रधान होता है. ग्राम पंचायत में एक या एक से अधिक ग्राम आते है, Village Panchayat Head गाँवो में होने वाली गतिविधियों का ध्यान रखता है. ग्राम पंचायत का मुखिया ग्रामीणों की समस्या का समाधान करता है.

ग्राम पंचायत का मुखिया कौन होता है

ग्राम पंचायत या ग्राम सभा में गांव या छोटे कस्वे आते है. ग्राम पंचायत में कम से कम एक हजार की आबादी होती है और जिन गांव की आबादी 1000 से कम होती है. वहां आसपास के अन्य छोटे-छोटे गांव को मिलाकर एक Gram Panchayat बना दिया जाता है ग्राम पंचायत का प्रधान ही मुखिया कहलाता है.

एक ग्राम पंचायत उन सभी गांव के लिए कार्य करती है जिन गांवों को मिलाकर एक Gram Panchayat बनाई जाती है.

Village Panchayat Head Kaise Banaye

Village Panchayat Head बनने के लिए उस व्यक्ति को उसी ग्राम में रहना अनिवार्य है एवं उस व्यक्ति का निवाश स्थान उसी गांव में होना चाहिए. Village Panchayat Head बनने के लिए व्यक्ति को सामाजिक कार्यों में रूचि लेनी होगी. उसे ग्रामीणों के सुख – दुःख में बराबर साथ रहना होगा.

उमीदवार को गांव के लोगो के साथ सामंजस्य बनाना होगा. वह उमीदवार अपने क्षेत्र में लोकप्रिय होना चाहिए.  जब आपको यह लगे की जनता के बीच आपकी अच्छी पकड़ बन गई है. तब आप Village Panchayat Head का चुनाव लड़कर ग्राम प्रधान बन सकते है.

Village Panchayat Head का चुनाव लड़ने के लिए उमीदवार का दसवीं की परीक्षा उत्तीर्ण होना अनिवार्य है महिलायों और SC/ST वर्ग के उमीदवारो के लिए आठवी कक्षा की छुट दी गई है.

ग्राम पंचायत के कार्य 

ग्राम पंचायत के कार्य ग्रामीणों की समस्या पर निर्भर होते है, ग्राम पंचायत से सम्बंधित निम्नलिखित कार्य.

  • गांवो में पक्की सड़के बनवाना
  • कृषि सम्बंधित काम पर ध्यान देना
  • चिकित्शा और स्वाश्थ सम्बंधित कार्य
  • महिला एवं बाल विकास से सम्बंधित कार्य
  • पशुपालन, दुग्ध उधोग और मुर्गी पालन से सम्बंधित कार्य
  • लघु उधोग,खादी उधोग और कुटीर उधोग को बढावा देना
  • भवन, पुल, पुलिया, सड़क का निर्माण करवाना
  • पेयजल व्यवस्था करना
  • सर्वजनिक सम्पति की रक्षा करना
ग्राम पंचायत मुखिया का चुनाव कैसे होता है

ग्राम पंचायत मुखिया का पद बहुत ही महत्वपूर्ण है ग्राम पंचायत मुखिया का चुनाव  प्रत्येक 5 वर्ष में होता है. ग्राम पंचायत मुखिया के चुनाव के लिए राज्य सरकार पहले स्वीकृति प्रदान करती है.

जिसके बाद राज्य निर्वाचन आयोग ग्राम पंचायत मुखिया के चुनाव कराने की घोषणा करता है. घोषणा के साथ ही आचार संहिता भी लागू कर दी जाती है.

इस घोषणा में एक समय सारणी जारी की जाती है. जिसमें पर्चा दाखिल करने, नाम वापस लेने और मतदान की तिथि का उल्लेख किया जाता है.

ग्राम पंचायत मुखिया का चुनाव जो उमीदवार लड़ना चाहता है वह निर्धारित समय पर परचा दाखिल कर सकता है. नाम वापस लेने की तिथि के बाद निर्वाचन अधिकारी प्रत्येक उमीदवार को एक चुनाव चिन्ह प्रदान करता है.

उमीदवार अचार संहिता के नियमानुसार अपने चुनाव चिन्ह पर वोट देने का प्रचार-प्रशार अपने क्षेत्र में गांव की गली- गली में घूम कर करता है एवं अपने पक्ष में मतदान करने के लिए विनम्र आग्रह करता है.

अगर उमीदवार गांव के लोगो की समय – समय पर सहायता करता है तो मतदान के दिन गांव के सभी मतदाता  उसे अपना वोट देते है मतदाता अपनी मर्जी के अनुशार उमीदवारो को वोट देते है.

मतदान के बाद मतगढ़ना की जाती है जिस उमीदवार के सबसे अधिक वोट होते है. उसे विजेता बना दिया जाता है और उसे निर्वाचन अधिकारी द्वारा Certificate प्रदान किया जाता है.

ग्राम पंचायत से सम्बंधित  – FAQ

ग्राम पंचायत का कार्यकाल कितने वर्ष का होता है. 

ग्राम पंचायत का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है.

ग्राम पंचायत क्या है.

ग्रामीण क्षेत्र के विकाश के कार्य एवं मुलभुत योजनाओ हेतु ग्राम सभा द्वरा एक कार्यकारी संस्था बनाई जाती है जिसे ग्राम पंचायत कहते है.

ग्राम पंचायत में सालाना कितना पैसा आता है.

ग्राम पंचायत में सालाना कम से कम 9,00,000 रुपय तक का बजट मिलता है.

ग्राम पंचायत के चुनाव कब होते है. 

ग्राम पंचायत के चुनाव सभी राज्यों में अलग – अलग समय पर होते है.

ग्राम पंचायत का गठन कब हुआ था. 

ग्राम पंचयत का गठन 2 अक्टूबर 1959 को हुआ.

अगर आपको हमारी यह Village Panchayat Head Or Mukhiya Kon Hota Hai एवं ग्राम पंचायत का मुखिया कौन होता है पोस्ट अच्छी लगी तो इसे शेयर करे एवं इससे जुड़े अन्य पोस्ट भी पढ़े. अगर आपके मन में कोई सवाल है तो आप comment करके पूछ सकते है.