Udyog Vibhag क्या है – उद्योग विभाग की योजनाये

इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि उद्योग विभाग क्या होता है उद्योग विभाग की योजनाएं क्या है उद्योग विभाग की जानकारी आदि उद्योग विभाग से संबंधित सारी जानकारी विस्तार से इस पोस्ट में आप पढ़ेंगे.

Udyog Vibhag क्या है- उद्योग विभाग की योजनाये

Udyog Vibhag Kya Hai

उद्योग विभाग सरकारी विभाग है जो राज्य सरकार के अधीन आता है और इसको केंद्र सरकार कंट्रोल करती है उद्योग विभाग सूक्ष्म,लघु, मध्यम उद्योग आते हैं. जैसे मछली पालन, मुर्गा पालन आदि .

उद्योग विभाग एक जिला स्तरीय संस्था है जो अपने जिले में सभी प्रकार की उद्योगों की स्थापना करने का काम करती है और उनके विकास हेतु जरूरी सुविधाओं, जरूरतों और सहायिकाओं को उपलब्ध करवाती है.

जिला उद्योग केंद्र की भूमिका एक संगठन को तैयार करने की होती है छोटे और बड़े स्तर के उद्योग डेवलप हो सके जो सरकार और लोगों को उद्योगों से फायदा हो.

लोगों को रोजगार मिलेगा और सरकार को टैक्स मिलेगा इसलिए सरकार उद्योग विभाग की स्थापना करती है.

Udyog Vibhag Ki Yojanaen

उद्योग विभाग की योजनाएं नीचे दी गई है

  • जिला उद्योग केंद्र लोन योजना
  • जिला उद्योग केंद्र लोन स्कीम
  • मुर्गी पालन योजना
  • झींगा पालन योजना
  • छोटे-बड़े उद्योग स्कीम

आदि.

Udyog Vibhag Pradhanmantri Yojana

उद्योग विभाग में प्रधानमंत्री योजना निकलती है जिसका आप फायदा ले सकते हैं इसके लिए आपको प्रधानमंत्री योजना की जानकारी उद्योग विभाग के वेबसाइट पर मिल जाएगी.
जिसको देखकर आप प्रधान मंत्री योजना के बारे में पढ़कर अपने व्यापार के अनुसार लोन ले सकते हैं और अन्य कोई मदद के लिए भी आप अप्लाई कर सकते हैं भारत सरकार के द्वारा जब भी कोई योजना निकाली जाती है.


तो सबसे पहले उसका रजिस्ट्रेशन करना जरूरी है जैसे ही आप रजिस्ट्रेशन करवा लेते हैं तो आप उस योजना के लिए एलिजिबल हो जाते हैं और आप उस योजना का आसानी से लाभ ले सकते हैं.
भारत सरकार के द्वारा बहुत सारी योजनाएं चलाई जा रही है जो विभिन्न प्रकार की हैं जिनकी जानकारी लेकर आप आसानी से उपयोग कर सकते हैं.

उद्योग केंद्र से आप क्या समझते है

उद्योग विभाग के द्वारा हर राज्य के हर जिले में एक उद्योग केंद्र की स्थापना की जाती है यह उद्योग केंद्र का काम होता है उस शहर में या उस जिले हैं सूक्ष्म, लघु, मध्यम, बड़े स्तर पर जितने भी उद्योग खुले जा रहे हैं.

उनका विकास और सतत संचालन मैं सहयोग कर सकें और उन्हें जल्दी से जल्दी अच्छी लेवल पर पहुंचा सकें उद्योग केंद्र का मुख्यालय जिला स्तर, मंडल, राज्य स्तर, केंद्रीय स्तर पर होता है.

उद्योग केंद्र पर जिला अधिकारी बैठता है जो सारे जिले में रोजगार और उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए सतत प्रयास करता है और देश में उद्योगों को आगे बढ़ाने का काम करता है जिससे लोगों को फायदा पहुंच सके और रोजगार मिल सके.

उद्योग विभाग से लोन कैसे मिलेगा

उद्योग विभाग से लोन लेने के लिए कुछ आवश्यक दस्तावेज चाहिए होते हैं
जैसे

  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • प्रोजेक्ट प्लान (जो उद्योग लगाना है)
  • बैंक पासबुक
  • आवास प्रमाण पत्र

यदि आप अपने व्यवसाय के लिए उद्योग विभाग से लोन लेना चाहते है तो आपको इसके अंतर्गत आने वाली योजनाओं का लाभ उठाना पड़ेगा .उद्योग विभाग में लोन के लिए आपको अपना व्यवसाय या उद्योग के बारे में उद्योग विभाग के अधिकारी को बताना पड़ेगा.

कि आप कितना लोन चाहते हैं, कितने समय में चुकाएंगे और आप लोन के बदले में गिरवी क्या रखे हैं. इन सब चीजों के बाद उद्योग विभाग जांच करेगा उसके बाद लोन की प्रक्रिया स्टार्ट होगी और आपको लोन मिल जाएगा.

लघु उद्योग के लिए लोन कैसे मिलेगा

लघु उद्योग के लिए लोन लेना बहुत ही आसान है इसके लिए प्रधानमंत्री लघु योजना लागू की गई हैं जिसके तहत आप लघु उद्योग को शुरू करने के लिए लोन ले सकते हैं
छोटे उद्योगों के लिए सरकार ने 1000000 से लेकर 2 करोड़ तक का लोन देने का वादा किया है.

और मध्यमवर्गीय उद्योगों के लिए सरकार ने 2500000 ₹50000000 तक की राशि देने का निश्चय किया है आप सबसे पहले लघु उद्योग की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर योजनाओं में देखेंगे कि आपके बिजनेस के लिए कौन सी योजना परफेक्ट है उसके अनुसार आप लोन के लिए अप्लाई करें और लोन में जो दस्तावेज लगेंगे वह लगाकर लोन ले सकते हैं.

उद्योग विभाग की जानकारी

उद्योग विभाग हर जिले में होता है भारत के सभी जिलों में उद्योग विभाग का ऑफिस होता है जिसमें प्रमुख कार्य व्यवसायिक गतिविधियों को देखना और व्यापारियों की जानकारी लेना और आर्थिक स्तर पर सहायता प्रदान करना.

उद्योग विभाग में क्या-क्या आता है

उद्योग विभाग में हस्तशिल्प, हैंडलूम, कॉपर उद्योग, रेशम उद्योग, कपड़ा उद्योग, मशीनरी उद्योग आदि बहुत सारे उद्योग इसके अंतर्गत आते हैं.