SDM कौन होता है – उपखण्ड अधिकारी कौन होता है कैसे बने

आज आप इस पोस्ट में जानेंगे की Upkhand Adhikari Kon Hota Hai, Sdm Kon Hota Hai, SDM का full form, SDM कैसे बने, SDM बनने के लिए आयु , SDM के कार्य,  SDM की तैयारी, SDM को मिलने बाले लाभ आदि यदि आप SDM बनना चाहते है तो उससे सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी आप इस पोस्ट में पढ़ सकते है.

SDM कौन होता है – उपखण्ड अधिकारी कौन होता है कैसे बने

Sdm Full Form

SDM का full form Sub District Magistrate होता है इस Upkhand अधिकारी या उप जिला अधिकारी भी कहते है इस hindi में उप प्रभागीय न्यायधीश कहते है

Upkhand Adhikari Kon Hota Hai

Upkhand वह व्यक्ति होता है जो अपने क्षेत्र में प्रशासन के मामलों की देखभाल करता है Upkhand को SDM कहा जाता है SDM का full form Sub District Magistrate होता है यह भी एक DM की ही तरह होता है

SDM के पद भर्ती संघ लोक सेवा आयोग UPSC और राज्यों के लोक सेवा आयोग द्वारा की जाती है इसके द्वारा आयोजित सर्वाधिक लोकप्रिय PCS परीक्षा है इस परीक्षा में लिखित परीक्षा के पश्चात एक Interview भी देना होता है इसमें राज्य का एक आयोग होता है जो इस सिविल सेवा परीक्षा का आयोजन करता है राज्य की सिविल सेवा परीक्षा में SDM सबसे बड़ा पद होता है इस परीक्षा को पास करने के बाद उमीदवारो को SDM के पद पर नियुक्त कर दिया जाता है

Sdm Kon Hota Hai

SDM उप जिला अधिकारी होता है इस पद का उमीदवार डीएम की तरह ही कार्य करता है SDM एक उच्च पद होता है किसी भी सरकारी अधिकारी के लिए जिसके द्वारा कई तरह के सरकारी कार्य किये जाते है

Sdm Kaise Bane

SDM बनने के लिए कैंडिडेट को सबसे पहले किसी भी Subject से Graduation की डिग्री करनी होगी किसी भी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से, साथ ही उस कैंडिडेट के ग्रेजुएशन में 50 % से जादा marks आने चाहिए एवं SDM बनने के कैंडिडेट की UPSC की तैयारी  करनी होगी या पीसीएस परीक्षा ( PCS exam ) की तैयारी कर सकते है दोनों ही परीछा के माध्यम से आप SDM वन सकते है  साथ ही SDM की परीक्षा में सभी विषय से सम्बंधित कैंडिडेट बैठ सकते है

SDM बनने के लिए आयु सीमा

SDM officer बनने के लिए minimum आयु 21 वर्ष और maximum आयु 40 वर्ष होना चहिये यदि कोई व्यक्ति SDM बनना चाहता हे तो वह 21 से 40 वर्ष के बिच में UPSC या PCS की परीक्षा दे सकता है परन्तु आरक्षित वर्गो के लिए आयु में कुछ साल की छुट दी जाती है जो इस प्रकार है

  • OBC वर्ग के लोगो के लिए 5 वर्ष की छुट दी गई है
  • SC / ST बालो के लिए भी 5 वर्ष की छुट दी गई है
  • यदि कैंडिडेट राज्य या किसी खेल का खिलाडी है तो उसे भी 5 वर्ष की छुट दी गई है
  • विकलांग लोगो के लिए 15  वर्ष की छुट दी गई है
SDM  की परीक्षा को उमीदवार कितनी बार दे सकता है 

SDM बनने के लिए UPSC या PCS की परीक्षा सामान्य वर्ग के लोग 4 बार ही दे सकते है परन्तु SC / ST वर्ग के लोग इस परीक्षा को कितनी भी बार दे सकते है उनके लिए कोई limit नहीं है विकलांग कैंडिडेट भी इस परीक्षा को जब तक चाहे तब तक दे सकता है इनके लिए कोई age limit नहीं है

Sdm Ke Karya

SDM के निम्नलिखित कार्य है जो इस प्रकार है

  • SDM जिले के सभी तरह के जमीनी व्यापर की देखरेख करता है
  • SDM के पास जिले की जमीनों के सरकारी कागजात होते है जिन्हें लेखा – जोखा कहा जाता है 
  • SDM officer के नियंत्रण में जिले के सभी तहसीलदार होते है 
  • SDM जिले में लोकसभा, विधानसभा के चुनाव को आयोजित कराता है
  • SDM वाहनों और दुकानों इत्यादि की लाइसेंस जारी कराता है
  • SDM अधिकारी विवाह की रजिस्ट्री से सम्बंधित कार्य, विभिन्न प्रकार के पंजीकरण से सम्बंधित कार्य करता है 
Sdm Ki Taiyari Kaise Kare

SDM बनने के कैंडिडेट को State द्वारा आयोजित PCS Exam ( State Public Service Commission ) में सामिल होना होता है इस परीक्षा को तीन भागों में बांटा गया है जो इस प्रकार है

  • प्रारम्भिक परीक्षा
  • मुख्य परीक्षा
  • साक्षात्कार

SDM बनने के लिए व्यक्ति का तीनो परीक्षा में पास होना अनिवार्य है

SDM बनने के लिए कैंडिडेट UPSC या CSE की भी परीक्षा दे सकता है UPSC CSE ( Civil Service Examination ) जिसे हिंदी में सिविल सेवा परीक्षा भी कहा जाता  है इस भी 3 भागो में विभाजित किया गया है

  • प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary examination)
  • मुख्य परीक्षा (Main examination)
  • इंटरव्यू (Interview)  

UPSC या CSE की परीक्षा में apply करने के लिए आप नीचे दी गई लिंक पर क्लिक कर सकते है

SDM की परीक्षा को तीन भागो मै विभाजित किया गया है इनमे प्रथम दो परिक्षाए लिखित होती है और अंतिम परीक्षा में interview लिया जाता है पहली दोनों परीक्षाओ को कैंडिडेट Hindi और English किसी भी माध्यम से अपनी सुविधा के अनुसार दे सकता है

पहली लिखित परीक्षा में objective type प्रश्न पूछे जाते है जिस राज्य में कैंडिडेट परीक्षा दे रहा है उससे उसी राज्य से सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते है

यदि कैंडिडेट प्रथम परीक्षा में पास होता है तभी उसे दूसरी परीक्षा में बैठने की इजाजत होती है इसमें भी कैंडिडेट से subjective type के प्रश्न पूछे जाते है और निबंध भी लिखना होता है

प्रथम एवं मध्यम परीक्षा पास करने के बाद कैंडिडेट का interview लिया जाता है interview में कैंडिडेट के निर्णय लेने की क्षमता की परीक्षा ली जाती है साथ ही कैंडिडेट से विषय से सम्बंधित सभी प्रकार के प्रश्न पूछे जाते है कैंडिडेट से अपने राज्य से सम्बंधित प्रश्न भी पूछे जाते है interview लेते समय interviewer कैंडिडेट के आत्मविश्वास की परीक्षा लेता है

SDM

SDM को मिलने बाले लाफ

SDM  को कई तरह के लाभ मिलते है जो इस प्रकार है

  • SDM ऑफिसर को रहने के लिए सरकारी घर दिया जाता है
  • SDM के घर में सिक्योरिटी गार्ड और रसोईया घर की साफ सफाई करने के लिए नौकर  की सुविधा कराइ जाती है
  • SDM officer को सरकारी वाहन भी दिया जाता है
  • SDM officer को फ्री बिजली और फ्री टेलीफोन की सुविधा भी प्राप्त होती है
  • SDM officer को जॉब सिक्योरिटी प्राप्त होती है
  • SDM officer को रिटायरमेंट के बाद पेंशन की सुविधा भी मिलती है
  • SDM officer यदि सरकारी काम के कहीं दूसरे राज्य में जाते हैं तो वहां उनके लिए अच्छी रहने की सुविधा की जाती है
SDM सम्बंधित – FAQ

Sdm Ki Salary Kitni Hoti Hai

SDM को सैलरी 9300 से लेकर 34800 के बीच में मिलती है एवं grade pay के तौर पर उसे हर महीने 5400 रूपये भी दिए जाते है

Sdm Ki Shikayat Kahan Karen

SDM की शिकायत जिला कलेक्टर के पास अथवा संभागीय कमिश्नर के पास कर सकते है.

Sdm Ko Kya Kahate Hain

SDM को उप जिला अधिकारी कहा जाता है

Sdm Ke Liye Height

SDM बनने के लिए हाइट जरुरी नहीं होती है

अगर आपको हमारी यह Sdm Full Form एवं Up Rajyapal Ki Niyukt Upkhand Adhikari Kon Hota Hai पोस्ट अच्छी लगी तो इसे शेयर करे एवं इससे जुड़े अन्य पोस्ट भी पढ़े. अगर आपके मन में कोई सवाल है तो आप Comment करके पूछ सकते है