Rashtrapati कैसे बनता है, राष्ट्रपति का चुनाव कैसे होता है

| | 3 Minutes Read

क्या आप भी Rashtrapati से जुड़ी जानकारी ढूंढ रहे हैं? अगर हाँ तो आप सही जगह हैं. आज मैं आपको बताऊंगा Rashtrapati Kaise Banta Hai और Rashtrapati Ka Chunav Kaise Hota Hai.

इसके साथ ही मैं आपको Rashtrapati से जुड़े और भी सवालों के जवाब दूंगा जैसे कि: Rashtrapati की योग्यता, Rashtrapati का कार्य, Rashtrapati की Salary इत्यादि की पूरी जानकारी विस्तार में बताऊंगा.

Rashtrapati Kaise Banta Hai

राष्ट्रपति बनने के लिए उम्मीदवार को सबसे पहले विधानसभा या राज्य सभा के सदस्य बनना होता है. इसके लिए Election Commission के द्वारा आम लोगों के सामने प्रस्तुत होना जरूरी है. उसके बाद, उम्मीदवार को राष्ट्रपति के लिए राष्ट्रीय चुनाव में आवेदन करना होता है.

उम्मीदवारों को अपने विचार और योजनाओं को लोगों के सामने अच्छे से प्रस्तुत करना आना चाहिए. जब उम्मीदवार चयन हो जाता है, तो वह राष्ट्रपति बनने के लिए प्रतिबद्ध होता है. राष्ट्रपति का कार्यक्षेत्र विशेष होता है. उसके ऊपर देश के सभी नागरिकों की सुरक्षा और कल्याण की जिम्मेदारी होती है.

राष्ट्रपति की भूमिका महत्वपूर्ण होती है. यह देश का सर्वोच्च नेता होता है जिसे राष्ट्र के संघर्षों और समस्याओं का सामना करना होता है. उसे नेतृत्व, न्याय और समर्पण की भावना से युक्त रहना होता है.

इस लिए आपकी आयु 35 वर्ष से अधिक होनी चाहिए. आपके पास नागरिकता प्रमाणपत्र होना चाहिए. आपका किसी भी एक राज्य का निवासी होना अनिवार्य है. इसके बाद, आप राष्ट्रपति के लिए अप्लाई कर सकते हैं.

Rashtrapati Ka Chunav Kaise Hota Hai

राष्ट्रपति का चुनाव एक निर्वाचक मंडल के सदस्यों द्वारा किया जाता है जिसमें संसद के दोनों सदनों के निर्वाचित सदस्य और राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों दिल्ली और Pondicherry की विधानसभाओं के निर्वाचित सदस्य होते हैं.

Rashtrapati Banne Ki Yogyata

राष्ट्रपति बनने के लिए आपको भारत का नागरिक होना जरूरी है. आपकी उम्र कम से कम 35 वर्ष की होना चाहिए तथा आप लोक सभा के सदस्य के रूप में चुनाव के लिए योग्य होना चाहिए.

Rashtrapati Ki Shaktiyan

राष्ट्रपति भारतीय सशस्त्र बलों का सर्वोच्च कमांडर होता है. प्रधान मंत्री की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिपरिषद की सलाह पर राष्ट्रपति युद्ध की घोषणा कर सकता है या शांति समाप्त कर सकता है. सभी महत्वपूर्ण संधियाँ और अनुबंध राष्ट्रपति के नाम पर किए जाते हैं.

Rashtrapati Ke Karya

राष्ट्रपति का प्राथमिक कर्तव्य अनुच्छेद 60 के अनुसार भारत के संविधान और कानून की रक्षा, रक्षा और बचाव करना है। राष्ट्रपति मुख्य न्यायाधीश की सलाह पर भारत के मुख्य न्यायाधीश और अन्य न्यायाधीशों की नियुक्ति करता है। राष्ट्रपति किसी न्यायाधीश को संसद के दोनों सदनों के दो-तिहाई मत से बरखास्त कर सकता है।

Rashtrapati Kya Hai

राष्ट्रपति का प्राथमिक कर्तव्य अनुच्छेद 60 के अनुसार भारत के संविधान और कानून की रक्षा, रक्षा और बचाव करना है. राष्ट्रपति मुख्य न्यायाधीश की सलाह पर भारत के मुख्य न्यायाधीश और अन्य न्यायाधीशों की नियुक्ति करता है. राष्ट्रपति किसी न्यायाधीश को संसद के दोनों सदनों के दो-तिहाई मत से बर्खास्त कर सकता है.

Rashtrapati Shasan Kab Lagta Hai

भारत संविधान के अनुच्छेद 356 के तहत, यदि कोई राज्य सरकार संवैधानिक प्रावधानों के अनुसार कार्य करने में असमर्थ है, तो केंद्र सरकार राज्य Missionary का सीधा नियंत्रण ले सकती है. इसके बाद, केंद्र से नियुक्त राज्यपाल के माध्यम से कार्यकारी अधिकार का प्रयोग किया जाता है.

Rashtrapati of India List
Rajendra PrasadRamaswamy Venkataraman
Sarvepalli RadhakrishnanShankar Dayal Sharma
Zakir HusainK.R. Narayanan
V.V. GiriA. P. J. Abdul Kalam
Mohammad HidayatullahPratibha Patil
Fakhruddin Ali AhmedPranab Mukherjee
B.D. JattiRam Nath Kovind
Neelam Sanjiva ReddyDraupadi Murmu
Zail Singh
Rashtrapati Ki Salary

भारत सरकार ने राष्ट्रपति का वेतन ₹3.6 लाख कर दिया है.

आशा करते हैं आपको Rashtrapati Kaise Banta Hai और Rashtrapati Ka Chunav Kaise Hota Hai पोस्ट अच्छी लगी होगी. 

अगर अच्छी लगी तो इस पोस्ट को Share करें और अगर कोई Question पूछना हो तो नीचे Comment करके पूछ सकते हैं.

Author:

Hello!! दोस्तों मेरा नाम Rohit है. मैं SarkariPot.com का Writer हूँ. मुझे हिंदी में सरकारी Jobs के बारे में लिखना पसंद है. मैं इन Blogs की मदद से आप तक सरकारी विभाग में उपलब्ध Jobs की जानकारी पहुंचाना चाहता हूँ.मेरा आपसे निवेदन है की आप इसी तरह मेरा सहयोग देते रहें और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों के साथ मेरे लिखे Content को शेयर करें.मैं आप सभी के लिए Latest जानकारियाँ उपलब्ध करवाता रहूँगा.

Questions Answered: (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *