राज्य मंत्री कौन है – राज्य मंत्री क्या होता है एवं कार्य

आज आप इस पोस्ट में जानेंगे की Rajya Mantri Kaun Hai और Rajya Mantri Kya Hota Hai, राज्यमंत्री कैसे बने, राज्यमंत्री के कार्य, राज्यमंत्री के प्रकार, राज्यमंत्री की पॉवर एवं यदि आप राज्यमंत्री बनना चाहते है तो उससे सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी आप इस पोस्ट में पड़ सकते है.

राज्य मंत्री कौन है – राज्य मंत्री क्या होता है एवं कार्य

Rajya Mantri Kaun Hai

राज्यमंत्री कबिनेट मंत्री के सहायक के रूप में काम करता है भारत में कई राज्य है उन सभी राज्यों में एक मंत्री होता है. जो उस राज्य की देखरेख करता है. राज्यमंत्री केबिनेट की मीटिंग में भाग नहीं ले सकता हे परन्तु उसे मंत्री की ही सुभिधाए दी जाती है

राज्य मंत्री को अंग्रेजी में मिनिस्टर ऑफ़ स्टेट कहा जाता है. राज्यमंत्री का पद तीसरे नंबर पर आता है राज्य मंत्री को केबिनेट मंत्री के मंत्रालय में एक विशेष जिम्मेदारी दी जाती है.

Rajya Mantri Kya Hota Hai

राज्यमंत्री वह मंत्री होते है जो किसी विभाग के स्वतंत्र प्रभार नहीं होते है. जबकि वे किसी स्वतंत्र प्रभार वाले मंत्री के अधीन होते है राज्यमंत्री का पद भारत में तीसरे नंबर पर आता है यह मत्रिमंडल में प्रधानमंत्री तथा केबिनेट मंत्री के बाद आता है भारत के संभिधान के अंतर्गत राज्यमंत्री स्वतंत्र भी हो सकता है.

राज्यमंत्री केबिनेट मंत्री के सहायक के रूप में भी काम करता है राज्यमंत्री को कभी – कभी सरकार के सर्वोच्च पद के लिए भी प्रयुक्त किया जा सकता है एक केबिनेट मंत्री के अंडर एक या उससे ज्यादा राज्य मंत्री भी आ सकते है भारत के मंत्रालय में कई विभाग होते है. इन विभाग को राज्य मंत्री के बीच बांटा जाता है, जिससे वे कबिनेट मंत्री की मंत्रालय चलाने में मदद कर सकते है.

Rajya Mantri Kaise Bante Hain

राज्य मंत्री बनने के लिए कई बातो का ध्यान रखना चाहिए जो इस प्रकार है.

  • राज्यमंत्री बनने के लिए उमीदवार भारत का नागरिक होना चाहिए.
  • उस उमीदवार का किसी भी तरह को अपराधिक गतिविधियों में किसी भी तरह से कोई पहले से रिकॉर्ड न हो.
  • राज्यमंत्री बनने के लिए उस उमीदवार का पहले से ही मंत्री परिषद में कम से कम 6 महीने तक कार्यरत रहना जरुरी होता है.
  • राज्यमंत्री बनने से पहले उमीदवार मंत्री बनता है यदि वह मंत्री बन जाता है तो उसे उस पद पर कम से कम 6 महीने के लिए रहना होगा और उन 6 महीने के अन्दर वह किसी भी सदन का सदस्य बन सकता है.
  • मंत्री बनने के बाद वह उमीदवार राज्यमंत्री बन जाता है, राज्यमंत्री, केबिनेट मंत्री से निचे का पद होता है.
Rajya Mantri Ke Karya

राज्यमंत्री के कार्य कुछ इस प्रकार है.

  • राज्यमंत्री का काम केबिनेट मंत्री के सहयोगी के रूप में काम करना होता है.
  • केबिनेट मंत्री की सहायता के लिए ही राज्यमंत्री का निर्माण किया जाता है.
  • राज्यमंत्री केबिनेट मंत्री के निर्देशानुसार कार्य करता है.
  • राज्यमंत्री अपने विभाग के सभी प्रकार के कामो को संभालता है.
Rajya Mantri Ki Power

राज्यमंत्री की कोई विशेष पॉवर नहीं होती है यह केबिनेट मंत्री का सहायक होता है राज्यमंत्री का पद केबिनेट मंत्री के पद के निचे का पद होता है इसलिए इसे सभी काम केबिनेट मंत्री के निर्देश के अनुसार ही करना होता है.

Rajya Mantri Ke prakar

राज्यमंत्री दो तरह के होते है जो कबिनेट मंत्री के निचे आते है.

  • राज्य मंत्री: राज्य मंत्री केबिनेट मंत्री की बैठक में भाग नहीं लेते है.
  • स्वतंत्र प्रभार राज्य मंत्री: स्वतंत्र प्रभार राज्य मंत्री कैबिनेट मंत्री की बैठक में भाग लेता है उस समय स्वतंत्र प्रभार राज्य मंत्री का उस बैठक में उपस्थित होना आबश्यक होता है.
राज्यमंत्री से सम्बंधित – FAQ

राज्य मंत्री कौन है.

राज्य मंत्री केबिनेट मंत्री का सहायक है.

Rajya Mantri Ki Salary.

राज्यमंत्री को 1000 रूपये प्रति दिन दिया जाता है.

अगर आपको हमारी यह Rajya Mantri Kaun Hai एवं Rajya Mantri Kya Hota Hai पोस्ट अच्छी लगी तो इसे शेयर करे एवं इससे जुड़े अन्य पोस्ट भी पढ़े. अगर आपके मन में कोई सवाल है, तो आप Comment करके पूछ सकते है.